न्यायालय ने तीन मई तक माँगी धारा 20 के कार्यवाही की प्रगति रिपोर्ट

0

ओबरा (पीडी राय/राकेश अग्रहरि)

image

ओबरा। स्थानीय बिल्ली मारकुंडी खनन क्षेत्र में धारा 20 के अंतर्गत अधिसूचना जारी ना होने की दशा में समाजसेवी अनिल सिंह द्वारा माननीय उच्च न्यायालय में जनहित याचिका दायर की गई थी।वहीं न्यायालय द्वारा 15 मार्च को जारी किए गए आदेश के बावजूद अभी तक अधिसूचना जारी ना होने पर शनिवार की शाम जिलाधिकारी को पत्र देकर अधिसूचना जारी कराए जाने की गुहार लगाई है।डीएम को दिए गए पत्र में श्री सिंह ने बताया है कि बीते 26 जुलाई 2018 को 13 सदस्यी बैठक लखनऊ में हुई थी।बैठक में शामिल एफएसओ तथा प्रभागीय वनाधिकारी ओबरा मूलचंद द्वारा संयुक्त रूप से इस बात पर सहमति व्यक्त की गई कि संदर्भित क्षेत्र स्पष्ट रूप से धारा 4 से पृथक है।साथ ही उक्त क्षेत्र पर धारा 5 तथा 6 सहित धारा 20 के पूर्व की कार्यवाही भी हो चुकी है, तथा धारा 20 के कार्यवाही किए जाने की मात्र औपचारिकता शेष बची हुई है।बताया कि उत्तर प्रदेश शासन द्वारा निर्गत शासनादेश एवं अपर मुख्य सचिव भूतत्व एवं खनिकर्म उत्तर प्रदेश शासन की अध्यक्षता में हुई बैठक में पारित प्रस्ताव के बावजूद प्रभागीय वनाधिकारी द्वारा वन अधिनियम की धारा 20 के अंतर्गत अधिसूचना जारी नहीं किया जाना न्याय संगत नहीं है।इससे नाराज होकर समाज सेवी श्री सिंह द्वारा माननीय उच्च न्यायालय में जनहित याचिका दायर की गई थी।मामले में दोनों पक्षों की सुनवाई करने के उपरांत न्यायालय द्वारा शासकीय अधिवक्ता को निर्देशित किया गया है, कि उपरोक्त प्रकरण में धारा 20 की अधिसूचना के संदर्भ में की गई कार्यवाही को संबंधित अधिकारियों से आंख्या मांग कर आगामी 3 मई को न्यायालय के समक्ष रखा जाए।ताकि उसी दिन समुचित आदेश पारित किया जा सके। बतादें कि जल्द धारा 20 की अधिसूचना जारी नहीं की गई तो निश्चित रूप से बेरोजगारी के अभाव में यहां के आदिवासी बनवासी मजदूर पूरी तरह से भुखमरी के कगार पर पहुंच जाएंगे।दूसरी ओर सन 1994 से बिल्ली मारकुंडी में धारा 4 पृथक होने के बावजूद भी वन विभाग की लापरवाही के चलते धारा 20 का प्रकाशन आज तक नहीं हो सका।जिसका खामियाजा खनन पट्टा धारकों सहित क्रशर मालिकों को उठाना पड़ रहा है।जल्द ही इस मामले का हल नहीं निकाला गया तो निश्चित रूप से यहां के लोग रोजगार के अभाव में पलायन करने को विवश हो जाएंगे, जिसकी पूरी जिम्मेदारी शासन व प्रशासन की होगी।

Share.

Leave A Reply

error: Content is protected !!