राष्ट्रीय ग्रामीण स्वास्थ्य मिशन के तत्वाधान में जिला स्तरीय आशा सम्मेलन का हुआ आयोजन

0

सोनभद्र (राकेश अग्रहरि/मुकेश सिंह)

image

सोनभद्र। आशाएं स्वास्थ्य सेवाओं की रीढ़ है, जन स्वास्थ्य सुविधाएं बेहतर तरीके से गांव स्तर पर घर-घर तक पहुंचाने के लिए आषा ही सबसे महत्वपूर्ण कड़ी है।आशाओ को मजबूती प्रदान किये बिना जन स्वास्थ्य सुविधाएं जन-जन तक पहुंचा पाना मुमकिन नहीं। आशाएं वाकई क्षेत्रों में काफी मेहनत करती हैं और विभिन्न निरीक्षण के दौरान आषा बहुएं अपनी ड्यूटी निभाते हुए मिलती भी हैं, लिहाजा आशाओ को सम्मान देते हुए उनके मानदेय का भुगतान आदि समय से किया जाय।आशा बहुएं भी संस्थागत प्रसव को बढ़ावा दें। परिवार नियोजन तथा जच्चा-बच्चा जैसे महत्वपूर्ण कार्य को मूर्त रूप दे।उक्त बातें अपर जिलाधिकारी योगेन्द्र बहादुर सिंह ने बृहस्पतिवार को राष्ट्रीय ग्रामीण स्वास्थ्य मिशन के तत्वाधान में आयोजित ‘‘जिला स्तरीय आषा सम्मेलन‘‘ की अध्यक्षता करते हुए स्थानीय कृषि उत्पादन मण्डी समिति राबर्ट्सगंज में कही।कार्यक्रम का शुभारंभ अपर जिलाधिकारी योगेन्द्र बहादुर सिंह ने दीप प्रज्जवलित करके किया।अपर जिलाधिकारी योगेन्द्र बहादुर सिंह ने जिले के आठों विकास खण्डों में उत्कृष्ट कार्य करने वाली प्रथम, द्वितीय तृतीय ‘‘आशा बहुंओं‘‘ को प्रशस्ति-पत्र व क्रमशः 5 हजार, 3 हजार व 2 हजार रूपये का स्वीकृृति-पत्र प्रदान करते हुए हौसला अफजाई कर कहा कि सोनभद्र जिले की आषा बहुंए काफी मेहनत कर रही है, और भविष्य में भी इन्हें मेहनत करने की जरूरत है।

image

अपर जिलाधिकारी योगेन्द्र बहादुर सिंह ने आशा बहुंओं की तारीफ करते हुए कहा कि आशा बहुंए स्वास्थ्य विभाग की एक ऐसी कड़ी है, जिनकी पहुंच जिले के हर गांव के हर घर तक है।आशा बहुंओं ने ग्रामीण क्षेत्र में 102 व 108 नम्बर की एम्बुलेंस सेवाओं का भी काफी प्रचार-प्रसार किया है, जिसका फायदा आम नागरिक उठा रहे हैं।इस मौके पर अपर जिलाधिकारी ने  आशा संगनियों को भी प्रशस्ति-पत्र व स्वीकृति -पत्र देकर सम्मानित किया गया।आशा संगनियों का ब्लाक स्तर पर प्रथम द्वितीय, तृतीय स्थान पाने वाले को क्रमषः 05 हजार, 02 हजार व एक हजार रूपये का स्वीकृति पत्र प्रदान किया।इस अवसर पर बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं प्रदान करने वाले डाक्टर, सुपरवाईजर, एएनएम आदि को भी प्रशस्ति-पत्र देकर सम्मानित किया गया।अपर जिलाधिकारी योगेन्द्र बहादुर सिंह ने जन स्वास्थ्य सेवाओं से जुड़े कार्मिकों से अपील किया कि स्वास्थ्य सेवाओं को बेहतर बनाने के साथ ही सरकार द्वारा चलाई जा रही योजनाओं और षिक्षा के प्रति आम नागरिकों को अधिकाधिक जागरूक करें, ताकि सोनभद्र का साक्षरता दर भी बढ़ें। अपर जिलाधिकारी ने कहा कि गांव स्तर पर तैनात आशा बहुओं के साथ ही अन्य कर्मचारी सरकारी सेवाओं/योजनाओं  के प्रति अपनी जिम्मेदारी निभाने लगे तो गांव की तस्वीर जरूर बदल जायेगी और बदल भी रही है।अपर जिलाधिकारी योगेन्द्र बहादुर सिंह व मुख्य चिकित्साधिकारी डा0 एस0पी0 सिंह ने ‘‘आशा बहुओं‘‘ को प्रषस्ति-पत्र व पुरस्कार राषि प्रदान करते हुए कहा कि आशाओं को सम्मानित करना आशाओं का हौसला बढ़ाने का विषय है।उन्होंने कहा कि जिले की ‘‘आशा बहुएं‘‘ अच्छा कार्य करती हैं, जो कार्य गांव, देहात और घर-घर तक किये जाते हैं, उन्हीं कार्यो से सरकार के छवि का मूल्यांकन किया जाता है, लिहाजा लोकप्रिय सरकार की छवि बेहतर बनाने के लिए ‘‘आशा बहुएं‘‘ पूरे मनोयोग से कार्य करते हुए सरकार की छवि बेहतर बनायें।इस मौके पर परिवार कल्याण व जनस्वाथ्य सम्बन्धी विभिन्न नुक्कड नाटक व सांस्कृतिक कार्यक्रम के माध्यम से भी जागरूक किया गया।जिला स्तरीय आशा सम्मेलन को अपर जिलाधिकारी योगेन्द्र बहादुर सिंह, मुख्य चिकित्साधिकारी डा0 एस0पी0 सिंह, जिला प्रबन्धक  रिपुन्जय श्रीवास्तव, ए0सीमओं0 डा0 बीके अग्रवाल, डा0 सलिल श्रीवास्ताव, डा0 राघवेन्द्र सिंह, प्रभारी चिकित्साधिकारीगण उत्कृष्ट कार्य करने वाली आशाएं आदि ने सम्बोधित किया।समारोह के अवसर पर जिले के स्वास्थ्य विभाग के आलावा अधिकारियों के साथ ही जिले के आठों विकास खण्डों से भारी मात्रा में आषा बहुएं, एएनएनएम, प्रभारी चिकित्साधिकारीगण आदि मौजूद रहें।कार्यक्रम का संचालन जिला मलेरिया अधिकारी डीएन श्रीवास्तव ने किया।

Share.

Leave A Reply

error: Content is protected !!