राज्य पेयजल एवं स्वच्छता मिशन के तहत एक दिवसीय कार्यशाला का हुआ आयोजन

0

सोनभद्र (राकेश अग्रहरि/मुकेश सिंह)

image

सोनभद्र। शासन की मंशा के अनुरूप सोनभद्र जिले के नागरिकों को शुद्ध एवं सुरक्षित पेयजल उपलब्ध कराने के लिए शासन द्वारा नामित एजेन्सी-स्मेक के पदाधिकारी कार्ययोजना बनाकर सोनभद्र जिले के सभी क्षेत्रों में शुद्ध एवं सुरक्षित पेयजल उपलब्ध कराने के लिए जमीनी हकीकत को देखते हुए सर्वे कर कार्ययोजना बनाएं, ताकि जिले के सभी क्षेत्रों में शुद्ध एवं सुरक्षित पेयजल उपलब्ध कराने के लिए योजना का सही रूप से क्रियान्वयन किया जा सके। नामित एजेन्सी के पदाधिकारीगण जिले के तहसील स्तरीय एवं ब्लाक स्तरीय अधिकारियोें से समन्वय बनाकर जमीनी हकीकत के अनुसार कार्ययोजना बनाएं, ताकि जिले के सभी क्षेत्रों में शुद्ध एवं सुरक्षित पेयजल उपलब्ध कराया जा सके।

image

उक्त बातेें प्रभारी जिलाधिकारी/मुख्य विकास अधिकारी महेन्द्र मिश्र ने कलेक्ट्रेट सभागार में आयोजित राज्य पेयजल एवं स्वच्छता मिषन (ग्राम्य विकास उत्तर प्रदेष शासन) समुदाय आधारित पाईप पेयजल योजना के संचालन अनुरक्षण संदर्भित एक दिवसीय कार्यषाला में कहीं।कार्यशला का शुभारंभ प्रभारी जिलाधिकारी महेन्द्र मिश्र ने दीप प्रज्जवलित करके किया।कार्यशाला को सम्बोधन के दौरान प्रभारी जिलाधिकारी महेन्द्र मिश्र ने कहा कि शासन की मंशा के अनुरूप दो साल के अन्दर शुद्ध एवं सुरक्षित पेयजल जिले के सभी क्षेत्रों में उपलब्ध कराने के लिए कार्ययोजना बनाकर सर्वे करें।सर्वे में जमीनी हकीकत को देखते हुए कार्य को मूर्त रूप दिया जाय।शासन द्वारा नामित एजेन्सी स्मेक (गुडगांव) के पदाधिकारीगण जिले के तहसील स्तरीय, ब्लाक स्तरीय, सिंचाई, जल निगम आदि से समन्वय बनाकर कार्य युद्ध स्तर पर करें, ताकि इस योजना को सफलता के लिए कार्ययोजना बनाकर योजना की क्रियान्वयन के लिए जल्द से जल्द कार्य किया जाय।कार्यशाला के दौरान उन्होंने कहा कि सोनभद्र जिले के सबसे पहले पेयजल से प्रभावित क्षेत्रों में जैसे-टैंकर द्वारा आच्छादित क्षेत्र, हैण्डपम्प लगे हों और सफलता न मिली हो, फ्लोराइड/आरसैनिक से प्रभावित क्षेत्रों में शुद्ध एवं सुरक्षित पेयजल की कार्ययोजना कर ली जाय।कार्यशाला में पेयजल से सम्बन्धित सभी बिन्दुओं पर नामित एजेन्सी-स्मेक के पदाधिकारियों ने प्रोजेक्टर के माध्यम से बुंदेलखण्ड एवं विन्ध्य क्षेत्र में शुद्ध पेयजल की समस्या एवं जल गुणवत्ता प्रभावित क्षेत्रों में पाइप पेयजल योजनाओं के विभिन्न पहलुओं की जानकारी दी।शासन द्वारा नामित जल निगम के के0के0 दूबे ने कार्यशाला में विभिन्न बिन्दुओं पर विस्तारपूर्वक जानकारी दी और इस योजना को सफल बनाने के लिए युद्ध स्तर पर कार्य करने की अपील की।कार्यशाला में पेयजल का महत्व, पेयजल योजना की आवष्यकता, उद्देष्य, पेयजल योजनाओं का निर्माण, ग्राम प्रधान/पंचायत एवं समुदाय की भागीदारी, अंषदान-जल शुल्क एवं कार्ययोजना आदि विषयों पर विचार-विमर्ष किया गया।कार्यशाला में प्रभारी जिलाधिकारी/मुख्य विकास अधिकारी महेन्द्र मिश्र के अलावा प्रषिक्षु आईएएस/उप जिलाधिकारी मानिकनन्दन, उप जिलाधिकारी सदर  शादाब असलम, जिला विकास अधिकारी रामबाबू त्रिपाठी, योजना के क्रियान्वयन हेतु शासन द्वारा नामित के0के0 दूबे, डीपीआरओ आर0के0 भारती, जल निगम के अधिषासी अभियन्ता, खण्ड विकास अधिकारीगण, नामित एजेन्सी स्मेक के पदाधिकारीगण सहित अन्य सम्बन्धितगण मौजूद रहें।

Share.

Comments are closed.

error: Content is protected !!