रवि उत्पादकता गोष्ठी में जिलाधिकारी ने किसानों को वैज्ञानिक खेती करने पर दिया जोर

0

सोनभद्र (राकेश अग्रहरि/मुकेश सिंह)

image

सोनभद्र। भारत देश कृषि प्रधान देश है।किसान बन्धुओं को प्रोत्साहित किये बिना देष तरक्की नहीं कर सकता, लिहाजा खेती-किसानी से जुड़े विभाग उपलब्ध संसाधनों का किसान के भलाई के लिए पूरी क्षमता से उपयोग करते हुए किसान बन्धुओं के सहयोगी बनें।वाकई किसान बन्धु ही अन्नदाता हैं, जो कड़ी मेहनत करके नागरिकों के लिए अनाज उपजाते हैं, किसान बन्धु परम्परागत खेती के साथ ही रोजाना आमदनी की खेती व बागवानी आदि पर विषेष ध्यान देकर वैज्ञानिक खेती करते हुए कम लागत में अधिक अन्न उपजाकर आत्म निर्भर बनें। किसान भाई ज्यादा से ज्यादा उन्नतशील बीजों व जैविक खाद का उपयोग करने की अपील की।उक्त बातें जिलाधिकारी अमित कुमार सिंह ने राजकीय उद्यान परिसर लोढ़ी में आयोजित सब मिशन आॅन एग्रीकल्चर एक्सटेंशन एण्ड टेक्नाॅलाजी योजना के अन्तर्गत रवि उत्पादकता गोष्ठी में कहीं।जिलाधिकारी श्री सिंह ने सब मिशन आॅन एग्रीकल्चर एक्सटेंशन एण्ड टेक्नाॅलाजी योजना के अन्तर्गत लगी कृषि विकास प्रदर्शनी/मेला का शुभारंभ फीता काटने के पश्चात दीप प्रज्ज्वलित करके किया।कार्यक्रम के शुभारंभ के दौरान बच्चियों द्वारा स्वागत गीत प्रस्तुत कर अतिथियों का स्वागत किया गया।किसान मेला/प्रदर्शनी में जिले के विभागों द्वारा लगी स्टालो का बारी-बारी से अवलोकन किया।

image

अवलोकन के साथ ही स्टालों में लगी कृषि से जुड़े जरूरतमंद सामानों के उपयोगिता के बारे में जाना और अपने-अपने बहुमूल्य सुझाव भी प्रस्तुत किये। जिलाधिकारी ने सम्बोधन करते हुए कहा कि अगर किसान भाईयों के मेहनत और लागत को किसान बड़े परिश्रम के बाद उत्पादन करता है, किसान जितना मेहनत करता है किसान को उतना लाभ नहीं मिल पाता है, यह तो किसान का बड़प्पन है कि वह तमाम विषम परिस्थितियों का सामना करते हुए आम नागरिकों के लिए अनाज, खाद्यान्न व साग भाजी तथा फल आदि उपजाता रहता है।सरकारी मषीनरी का दायित्व है कि वे कम लागत के आधार पर अधिक उत्पादकता वाली वैज्ञानिक खेती समय से किसानों को करने के लिए जागरूक करें और समयबद्ध तरीके से उन्नतशील बीज, उर्वरक आदि मुहैया करायें, ताकि किसान वैज्ञानिक खेती के जरिये कम खर्चे पर अधिक पैदावार करके आत्म निर्भर बनें।

image

जब तक किसान बन्धुओं का समुचित विकास नहीं होगा, तब तक देष चतुर्दिक विकास नहीं कर सकेगा। उन्होंने कहा कि सरकार ने अब सभी प्रकार की किसानों को दिये जाने वाले अनुदान की राषि सीधे उनके खाते में भेजी जा रही है।उन्होंने रवि उत्पादकता गोष्ठी के सम्बोधन के दौरान कहा कि सरकार द्वारा किसानों के भलाई के लिए चलायी जा रही योजनाओं को स्पष्ट रूप से धरातल पर दिखना चाहिए तभी सरकार की मंशा के अनुरूप किसानों के चेहरे पर असली मुस्कान देखने को मिलेगी।खेती या पीने की पानी की समस्या को देखते हुए जिले में सोन जलाग्रह योजना के अन्तर्गत तालाबों की खुदाई, सफाई व बन्धियों के निर्माण, मरम्मत आदि का कार्य तेजी से कराया जा रहा है।जैसा कि हमारे प्रधान मंत्री ने कहा कि किसानों की आयु दुगुना करना के लिए सरकार द्वारा संचालित किसानों के हित के लिए सभी योजनाओं तथा नई तकनीकियों को किसानों तक हर हाल में पहुंचाया जाय, ताकि अपनी फसल की उत्पादकता को बढ़ा सके।उन्होंने कहा कि किसान गोष्ठी के माध्यम से किसान भाईयों को नई तकनीकी व कृषि सम्बन्धी योजनाओं के बारे में जानकारी दी जा रही है।मौजूद किसान बन्धु दी जा रही जानकारी के ग्रहण करें, यदि मन में कोई शंका हो तो समाधान यहां मौजूद कृषि वैज्ञानिक व कृषि सम्बन्धित अधिकारी/कर्मचारी से सलाह लें, ताकि शंका का समाधान हो सके और अपने गांवों में अन्य किसान भाईयों को तकनीकी और सरकारी योजनाओं के बारे में बतायें।उन्होंने बताया कि किसान भाई किसी भी तरह के कृषि सम्बन्धी लाभ लेने के लिए आन लाईन पंजीकरण अवष्य करायें, ताकि अनुदान के साथ-साथ योजनाओं का भी लाभ मिल सके।इस मौके पर जिलाधिकारी अमित कुमार सिंह, मुख्य विकास अधिकारी सुनील कुमार वर्मा, उप जिलाधिकारी सदर शादाब असलम, उप निदेशक कृषि डी0के0 गुप्ता, जिला उद्यान अधिकारी सुनील कुमार वर्मा, कृषि अधिकारी पीयूष राय, एआर को-आपरेटिव त्रिभूवन सिंह, जिला पूर्ति अधिकारी राकेश तिवारी, कृषि वैज्ञानिकगण सहित जिले के सम्मानित किसान व अन्य सम्बन्धितगण मौजूद रहें।

Share.