पुरानी पेंशन के लिए शिक्षकों व कर्मचारियों ने अंतिम दिन पुतला दहन कर किया कार्य बहिष्कार

0

दुद्धी (पिंटू अग्रहरि)

image

दुद्धी। पुरानी पेंशन बहाली की मांग दिनों दिन जोर पकड़ती जा रही है।इसी क्रम में दुधी तहसील परिसर में शिक्षकों व कर्मचारियों की संयुक्त बैठक बुलाई गयी।सभा में सैकड़ों की संख्या में शिक्षकों व कर्मचारियों ने सरकार की तंद्रा भंग करने के लिए जोरदार गगनभेदी हुंकार लगाई।बैठक में कर्मचारियों ने सरकार के ऊपर तानाशाही व शोषण का आरोप लगाते हुए कहा कि कानून सबके लिए समान होना चाहिए जब सांसद या विधायक एक दिन भी पद पाकर आजीवन पेंशन पाने के हकदार हैं तो लगातार 60 वर्षों तक सेवा करने वाले कर्मचारी क्यों नहीं? ये भेदभाव क्यों? साथ ही वक्ताओं ने सरकार को चेताया कि यदि वोट पाना है तो पेंशन लागू करना पड़ेगा।सभा समाप्ति के बाद रैली के रूप में सैकड़ों लोगों के हुजूम ने जब रैली का रूप अख्तियार किया तो उनके गगनभेदी नारों से पूरा बाजार गूंज उठा।सरकार के प्रति भारी जनाक्रोश को दबाये हुए कर्मचारियों का गुस्सा उनके नारों में प्रकट हो रहा था।इतनी बड़ी रैली होते हुए भी उनका अनुशासन देखते बनता था।रैली बी0आर0सी0 परिसर से प्रारंभ होकर तहसील के सामने चौराहे पर समाप्त हुई। तहसील चौराहे पर एन0पी0एस0 का पुतला फूँकते हुए भीड़ ने आक्रोश से भरे जोरदार नारे लगाए।इस रैली में सुनील पांडेय, श्यामबिहारी, राजेश पांडेय, सदानंद मिश्र, जितेंद्र चौबे, विष्णु दयाल, अरुण राय, अविनाश गुप्ता, बिहारी लाल, रविकांत, मिथिलेश, राकेश शर्मा, विजय, अजीत, रामनरेश, अजय सिंह, पुष्पराज, उज्ज्वल, लालबहादुर, अशोक पाल, विनोद, बृजेश, दुर्गेश, प्रियंका, साधना आदि उपस्थित थे।

image

Share.