सीएसई सर्वे: साफ परिवहन के मामले में भोपाल और कोलकाता अव्वल, यहां ज्यादा लोग करते हैं पब्लिक ट्रांसपोर्ट का इस्तेमाल

0

[ad_1]

भारत में तेजी से बढ़ती वाहनों की संख्या की वजह से प्रदूषण के स्तर भी बढ़ोतरी हुई है। भारत में 60 साल में करीब 10 करोड़ वाहन बढ़े, लेकिन मजेदार बात ये है कि 2009 से 2015 के बीच भी वाहनों की संख्या में इतनी ही बढ़ोतरी हुई। हाल ही में पर्यावरण पर सर्वे करने वाली संस्था सेंटर फॉर साइंस एंड एनवॉयरमेंट (सीएसई) ने 14 बड़े शहरों में परिवहन स्वच्छता पर सर्वे किया। इसके तहत संस्था ने शहर में वाहनों की संख्या के मुकाबले कार्बन उत्सर्जन का स्तर मापा।

आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें

[ad_2]

Share.

About Author